जांजगीर -चाम्पा जिले के डभरा में शिक्षक सम्मान समारोह संपन्न,

डभरा में शिक्षक सम्मान समारोह संपन्न *************************जांजगीर चाम्पा :- चंद्रपुर विधानसभा क्षेत्र के डभरा ब्लॉक में शिक्षक सम्मान समारोह संपन्न हुआ। कार्यक्रम के आयोजक चंद्रपुर विधायक रामकुमार यादव द्वारा सृजन स्कूल मे रखा गया था।जिसमें मुख्य अतिथि जनक प्रसाद पाठक, विशिष्ट अतिथि तीर्थराज अग्रवाल, जिला शिक्षाधिकारी, श्रीमती नीलू चन्द्रा अध्यक्ष नगर पंचायत डभरा, श्रीमती तुलसी साहू जिला पंचायत सदस्य, रश्मि गबेल , जनकराम आज़ाद, तारकेश्वर गबेल, बी एल खरे व रोहित कुर्रे ने समारोह में शिरकत किये।सर्वप्रथम कार्यक्रम के बतौर मुख्य अतिथि जनक प्रसाद पाठक व आयोजक विधायक रामकुमार यादव , श्रीमती तुलसीदेवी साहू व नीलू चन्द्रा ने सरस्वती माता के छाया चित्र में दीपप्रज्जवलित किये। तत्पश्चात छात्राओ के द्वारा छत्तीसगढ़ी लोक नृत्य द्वारा धान के कटोरा गीत से उपस्थित अतिथि व शिक्षक गण मंत्रमुग्ध हो गये। उपस्थित अतिथियों का माल्यार्पण व बेंच लगाकर स्वागत किया गया। उसके बाद शिक्षक सम्मान समारोह प्रारंभ हुआ जिसमे सर्वप्रथम सेवानिवृत्त शिक्षकों का सम्मान श्रीफल व प्रशस्ति पत्र देकर किया गया। समारोह में सैकड़ों शिक्षक उपस्थित रहे।कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जनक प्रसाद पाठक कलेक्टर जांजगीर चाम्पा ने पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जयंती में शिक्षक दिवस समारोह में उनके अनेक विभूति कार्यो को याद किये।कलेक्टर ने कहाकि ब्रिटिश शासन में डॉ सर्वपल्ली अपने पहनावा व भारत की कल्चर को झुकने नही दिया।पाठक ने डॉ सर्वपल्ली की एक कहानी बताकर उनके जीवन की शिक्षा प्रद कार्यो की ओर प्रकाश डाला।कलेक्टर ने शिक्षको से कहाकि हमे डॉ सर्व पल्ली की जीवन गाथा का अनुसरण करना चाहिये।विधायक रामकुमार यादव ने उपस्थित शिक्षक गण व विशिष्ट व्यक्तियों को संबोधित करते हुये कहा कि इस संसार मे गुरु ही सर्व परी है , गुरु के बिना इस दुनिया मे किसी को भी शिक्षा व दैनिक मूल्यों की जानकारी नही हो सकती। उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति कितना ही बड़े अधिकारी व नेता क्यों न हो जाये। वह व्यक्ति शिक्षक से ही ज्ञान प्राप्त करके आगे की ओर अपना बढ़ता है।उक्त कार्यक्रम में सैकड़ों शिक्षक की उपस्थिति रही। जिसमें रामकुमार यादव विधायक के सार्थक पहल से सैकड़ों शिक्षको का सम्मानित किया गया। शिक्षकों से जब चर्चा हुई तो उन्होने कहा कि इस तरह से सम्मान करना बहुत ही अच्छा अनुकरणीय पहल है। उन्होंने कहा कि शिक्षा का सम्मान करना आने वाले पीढ़ी को एक आदर्श बनने का पहल ही है।